Daily News

दाड़लाघाट में फूंका गौतम आडाणी का पुतला….

दाड़लाघाट, 03 जनवरी।
सोलन के दाड़लाघाट में ट्रक आपरेटर्स का रोष बढ़ता जा रहा है। ट्रक आपरेटरों ने गौतम आडाणी का पुतला फूंका है और चेतावनी दी है कि यदि 7 जनवरी होने वाली बैठक में सीमेंट ढुलाई का विवाद हल नहीं होता है तो वह दाड़लाघाट व आसपास के क्षेत्रों से गुजरने वाले मुख्य व संपर्क मार्ग पर चक्का जाम कर देंगे।

यह भी पढ़े: देवठी मझगांव की प्रियांशी गणतंत्र दिवस की परेड में लेगी भाग

इस चेतावनी के बाद दाड़लाघाट में अंबूजा व ट्रक आपरेटर्स के बीच टकराव ओर भी अधिक बढ़ गया है। वहीं हालात से निपटने के लिए दाड़लाघाट में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

मंगलवार को सैकड़ों ट्रक ऑपरेटरों ने अंबुजा सीमेंट प्लांट दाड़लाघाट के मुख्य द्वार से बस स्टैंड तक रैली निकाल कर अदानी समूह के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए गो बैक अदाणी,अदाणी-सदाणी नहीं चलेंगे जैसे नारे लगाए।

मौके पर आक्रोशित ट्रक ऑपरेटरों ने अदानी का पुतला बस स्टैंड दाड़ला में जलाया।दाड़लाघाट की विभिन्न यूनियनों के पदाधिकारियों ने दो टूक शब्दों में कहा है कि अदानी समूह की मनमानी सहन नहीं की जाएगी।

बाघल लैण्डलूजर के पूर्व प्रधान रामकृष्ण शर्मा ने कहा कि आज अदानी का पुतला जलाया गया वो ट्रांसपोर्टरों के गुस्से का सैलाब था।उन्होंने कहा कि अदानी समूह अपने अनुसार चलाना चाहता है,ऐसा हम कतई भी बर्दाश्त नही करेंगे।

उन्होंने कहा कि पिछले कल शिमला में आयोजित बैठक में कोई हल नही निकाला,लेकिन माल ढुलान को लेकर जो रेट निर्धारित है वो आंकड़े प्रस्तुत किए।उन्होंने कहा कि अब कमेटी की अगली बैठक 7 जनवरी तक होगी।

हमे उम्मीद है कि किसी भी तरह से किराया कम नहीं होने देंगे।उन्होंने कहा कि 8 यूनियन के ट्रक ऑपरेटर 10.58 पैसे के रेट को ही लेकर रहेंगे।साथ ही 2019 से जो हाइक शेष है उसको भी हासिल कर लड़ाई जारी रखेंगे।

उन्होंने कहा कि अदानी की मनमानी बर्दाश्त नहीं की जाएगी।उन्होंने कहा कि अदाणी ग्रुप ने ऑपरेटरों की मांगों पर गौर नहीं किया तो आंदोलन और तेज होगा।

यह भी पढ़े: अपने लोगों के बीच पहुंचते ही भर आई जयराम ठाकुर की आंखे, थुनाग में हुए भावुक

एडीकेएम सभा के पूर्व प्रधान बालकराम शर्मा ने कहा कि यह विवाद अदानी द्वारा किया है जबकि हम तो आज तक बिना किसी विवाद के कार्य कर रहे थे ओर हमारी कंपनी से कोई लड़ाई नही थी,परंतु कंपनी ने आनन फानन में कह दिया कि 6 रुपये पहाड़ी क्षेत्र व 3 रुपये मैदानी इलाकों का प्रति किलोमीटर पर कार्य करना है तो करे अन्यथा हम कंपनी बन्द कर रहे है,जबकि हम 10 रुपये 58 पैसे पर काम कर रहे है ।

हिमाचल की ताज़ा खबरों के लिए join करें www.himachalsamay.com

verma sons
apex english ad

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button